सोमवार, 29 अक्तूबर 2012

लोलीवुड़


पाकिस्तान की फिल्मी उद्योग हम 'लोलीवुड़ के नाम से जानते हैं ठीक मुंबइया फिल्मी उद्योग की तरह,  1959 से 1969 में राष्ट्रपति अयूब के कार्यकाल के दौरान लोलीवुड़ का स्वर्णिम काल रहा और फिर 1988 से 2002 तक लोलीवुड़ का सितारा डूबता सा लगा। लेकिन हमेशा से पाकिस्तान के टेलीविज़न सीरीयल्स काफी सराहे जाते रहे हैं,  कुछ समय समय पहले एक शानदार पाकिस्तानी फिल्म खुदा के लिए देखने को मिली और अभी हाल ही में एक फिल्म आईना देखी जो वहाँ की सुपर हिट फिल्म मानी जाती है। आज तक सफलता के इस मुकाम तक कोई दूसरी पाकिस्तानी फिल्म नहीं पहुँच पायी है। गीत-संगीत सभी बेहतरीन।
1977 में नज़र-उल-इस्लाम द्वारा निर्देशित इस फिल्म का पहला सीन हूबहू 1975 में बॉलीवूड की फिल्म आँधी जैसा था बहरहाल पूरे तीन घंटे फिल्म ने बांधे रखा ठीक मुम्बईया मसाला फिल्मों की तरह। फिल्म देखते हुये लगा कि देशों की आपसी राजनीतिक उठा-पटक से अलग उनके बीच की सांस्कृतिक समानता कहीं न कहीं आ कर मिल ही जाती है।   

कोई टिप्पणी नहीं: