गुरुवार, 21 जनवरी 2010

एक जीवन यह भी


ताउम्र जीवन की आपाधापी में संघर्ष चलता रहता है। एक बडा हिस्सा समाज में स्वयं को स्थापित करने में गुजर जाता है । जब जीवन का उतरार्थ ठीक सामने दिखाई पडता है तब सब कुछ हाथ से फिसलता प्रतीत होता है । यह ठीक है जीवन में कुछ प्रतिबध्तायें होती हैं जिनको निभाना नितांत आवश्यक है। परन्तु कुछ ऐसे कम भी आवश्यक हैं जिनकी तरफ सबका ध्यान नहीं जाता । स्वयं को जानना ओर समाज को यथासंभव योगदान देना इत्यादि । हर एक समाज में कुछेक लोग ऐसे भी हैं जो धरती पर जन्म लेकर अनमोल मानव तन का सदुपयोग कर ताउम्र कर्तव्यों मे लगे रहते हैं ताकि अधिक से अधिक समाज के काम आ सकें ।
जीवन के इसी उतरार्थ के अंतिम पडाव की यात्री हैं डाक्टर कौश्लया मल्होत्रा। ९० वर्ष डाक्टर मल्होत्रा इस उम्र मे भी जबदस्त आत्मविश्वास से लबरेज हैं । उन्होने अपना जीवन अपने ढंग से जिया और इसी स्वतंत्रता का सदुपयोग भरपूर समाज सेवा ओर ज्ञान के प्रचार प्रसार में किया ।


पहली पारी


अपने जीवन की पहली पारी में उन्होंने स्त्री जीवन के वे सभी आयाम झेले जिससे हमारे समाज की हर दूसरी-तीसरी स्त्री को दो-चार होना पडता है । घर मे लडके को अधिक महत्व देना, छोटी नादान में विवाह, ससुराल पक्ष से उपेक्षा पूण व्यवहार, इन सभी झकझोर कर देने वाली स्थितियों में उन्होंने आगे पढने का निश्चय किया । बच्चों की परवरिश के बीच एमबीबीएस, एमएस की श्रमसाध्य पढाई की । घर परिवार का रवैया हमेशा असहयोग का रहा । परन्तु उन्होंने बेहद लगन एवं ईमानदारी के साथ कमयोगी चिकित्सक का कार्य किया ओर अपनी साफ-सुथरी एवं दबंग छवि के कारण हर ओर से प्रशंसा अर्जित की ।
कई मरणासन्न प्रसूताओं को उन्होंने अभूतपूर्व धैर्य और समझदारी के साथ नया जीवन पदान किया जिस कारण पूरी उम्र उन महिलाओं की दुआएँ पाती रही । उन्हें यह बात हमेशा सताती रही कि समाज में किस तरह लडकी व लडके के बीच भेद-भाव किया जाता है । मातृत्व का भयंकर अपमान उन्हें कतई गँवारा नही था । इसी कारण परिवार वालों को अक्सर ही उनकी तगडी फटकार सुननी पडती थी। जीवन की पहली पारी एक बेहतरीन कुशल चिकित्सक, सर्जन के रूप मे सफलतापूर्वक खेली और खूब वाहवाही बटोरी।

दूसरी पारी


डाक्टर कोशल्या मल्होत्रा ने दूसरी पारी भी उसी मुस्तैदी से खेली जिस सफलता से उनहोंने पहली पारी को अंजाम दिया। समय के साथ-साथ उनमें परिपक्वता आई ओर समाज सेवा ने उनके जीवन को नई दिशा दी । स्त्री के मसले उनकी सूची मे सर्वोपरी हैं । शिक्षा में पिछडापन, महिलाओं से दुर्वव्हार, उचित सम्मान का अभाव, सेहत के प्रति लापरवाही, लडके की चाह में बार-बार माँ की सेहत के प्रति खिलवाड, ससुराल में उपेक्षा आदि सभी मामलों से निपटने के लिए उनहोंने ' महिला सुरक्षा समिति ' बनाई जिसका मुख्य उद्देश्य महिलाओं की अस्मिता की रक्षा करना है ।इस उम्र में भी समाज सेवा व ज्ञान अर्जित करने की अद्भुद जिजीविशा देखकर अचरज होता है। राजनीति, धर्म, अध्यात्म, योग, सभी विषयों में उनकी अच्छी पकङ है और हर विषय पर अपना सटीक दष्टिकोण है जो जीवन को विशाल फलक प्रदान करता है।
कहा जा सकता है डाक्टर कौशल्या मल्होत्रा का जीवन एक ऐसा बरगद है जिसकी छाया तले असीम शीतलता है। युवाओं को उन्हीं के समकालीन, समदर्शी बुजुर्गो से बहुत कुछ सीखना चाहिए।

7 टिप्‍पणियां:

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

achhi rapat

ललित शर्मा ने कहा…

उत्तम आले्ख

Hari Joshi ने कहा…

डा0 कौशल्‍या मल्‍होत्रा को सलाम

mirtue ek satya ने कहा…

ब्लॉग जगत का घिनौना चेहरा अविनाश

भारतीय ब्लॉगिंग दुनिया के समस्त ब्लॉगरों से एक स्वतंत्र पत्रकार एवं नियमित ब्लॉग पाठक का विनम्र अपील-
संचार की नई विधा ब्लॉग अपनी बात कहने का सबसे प्रभावी माध्यम बन सकता है, परन्तु कुछ कुंठित ब्लॉगरों के कारण आज ब्लॉग व्यक्तिगत कुंठा निकालने का माध्यम बन कर रह गया है | अविनाश (मोहल्ला) एवं यशवंत (भड़ास 4 मीडिया) जैसे कुंठित
ब्लॉगर महज सस्ती लोकप्रियता हेतु इसका प्रयोग कर रहे हैं |बिना तथ्य खोजे अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर खबरों को छापना उतना ही बड़ा अपराध है जितना कि बिना गवाही के सजा सुनाना | भाई अविनाश को मैं वर्षों से जानता हूँ - प्रभात खबर के जमाने से | उनकी अब तो आदत बन चुकी है गलत और अधुरी खबरों को अपने ब्लॉग पर पोस्ट करना | और, हो भी क्यूं न, भाई का ब्लॉग जाना भी इसीलिए जाता है|

कल कुछ ब्लॉगर मित्रों से बात चल रही थी कि अविनाश आलोचना सुनने की ताकत नहीं है, तभी तो अपनी व्यकतिगत कुंठा से प्रभावित खबरों पर आने वाली 'कटु प्रतिक्रिया' को मौडेरेट कर देता है | अविनाश जैसे लोग जिस तरह से ब्लॉग विधा का इस्तेमाल कर रहे हैं, निश्चय ही वह दिन दूर नहीं जब ब्लॉग पर भी 'कंटेंट कोड' लगाने की आवश्यकता पड़े | अतः तमाम वेब पत्रकारों से अपील है कि इस तरह की कुंठित मानसिकता वाले ब्लॉगरों तथा मोडरेटरों का बहिष्कार करें, तभी जाकर आम पाठकों का ब्लॉग या वेबसाइट आधारित खबरों पर विश्वास होगा |
मित्रों एक पुरानी कहावत से हम सभी तो अवगत हैं ही –
'एक सड़ी मछली पूरे तालाब को गंदा कर देती है', उसी तरह अविनाश जैसे लोग इस पूरी विधा को गंदा कर रहे हैं |

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

विपिन जी नमस्कार, आपका ब्लॉग बढ़िया लगा..डॉ. कौशल्या मल्होत्रा जी जैसे लोगों के बारे में पढ़ कर अच्छा लगा...बढ़िया आलेख..अगली पोस्ट का इंतज़ार हैं....धन्यवाद

Mohammed Umar Kairanvi ने कहा…

nice

Bk'wonder ने कहा…

jeevan yatra se judi bahut hi anuthe pahaluon ki charcha hai....bahut khoob!